Kisi Se Unki Manzil Kaa Pata

Kisi Se Unki Manzil Kaa Pata - Deepak Ram Lyrics

Kisi Se Unki Manzil Kaa Pata
Singer Deepak Ram
किसी से उनकी मंज़िल का पता पाया नहीं जाता
जहाँ है वो वहाँ गम का साया नहीं जाता
किसी से उनकी मंज़िल का पता पाया नहीं जाता
फकीरी में भी मुझको मांगने में शर्म आती है
तेरे बनके अब मुझसे हाथ फैलाया नहीं जाता
किसी से उनकी मंज़िल का पता पाया नहीं जाता
मेरे टूटे हुए पेरो तलब का मुझ पे एहसान है
तेरे दर से अब उठके और जाया नहीं जाता
किसी से उनकी मंज़िल का पता पाया नहीं जाता
इबादत के लिए कुछ ख़ास दिल मख्सूस होते है
ये वो नगमा है जो हर साज पे गया नहीं जाता
किसी से उनकी मंज़िल का पता पाया नहीं जाता
जहाँ है वो वहाँ गम का साया नहीं जाता
किसी से उनकी मंज़िल का पता पाया नहीं जाता

Lyrics English

Kisi Se Unki Manzil Ka Pata Paaya Nahin Jaata
Jahaan Hai Vo Vahaan Gam ka Saaya Nahin Jaata
Kisi Se Unki Manzil Ka Pata Paaya Nahin Jaata
Phakiri Mein Bhi Mujhko Mangne Mei Sharam Aati Hai
Tere Banke Ab Mujhse Haath Failaya Nahin Jaata
Kisi Se Unki Manzil Ka Pata Paaya Nahin Jaata
Mere Toote hue Pero Talab Ka Mujhpe Ehsaan hai
Tere Dar Se Ab Uthke Aur Jaaya Nahin Jaata
Kisi Se Unki Manzil Ka Pata Paaya Nahin Jaata
Ibaadat Ke Liye Kuch Khaas Dil Makhsoos Hote Hai
Ye Vo Nagama Hai Jo Har Saaj Pe Gaya Nahi Jaata
Kisi Se Unki Manzil Ka Pata Paaya Nahin Jaata
Jahaan Hai Vo Vahaan Gam ka Saaya Nahin Jaata
Kisi Se Unki Manzil Ka Pata Paaya Nahin Jaata

Dena Ho Toh Dijiye Janam Janam Ka Saath

achyutam keshavam krishna damodaram

Radhey Tere Charno Ki

Mera Aap Ki Kripa Se Sab

Shiv Tandav Stotram

टिप्पणी पोस्ट करें

please do not enter any spam link in the comment box